KAUSHAL PANDEY (Astrologer)

Astrology,

45 Posts

182 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 2748 postid : 140

जन्मकुंडली में मंगल ग्रह का उपाय :- कौशल पाण्डेय

Posted On: 18 Dec, 2012 में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

जन्मकुंडली में मंगल ग्रह का उपाय :- कौशल पाण्डेय

लाल किताब के अनुसार मंगल एक पापी एवं क्रूर ग्रह है। इसमें मंगल की दो रूप में व्याख्या की गई है – नेक और बद अर्थात शुभ और अशुभ। शुभ मंगल का देवता साक्षात श्रीराम भक्त हनुमानजी को माना गया है जिसका हर ज्योतिष शास्त्र में उल्लेख है। मंगल अशुभ (बद) के देवता भूत-प्रेत माने गए हैं। किंतु लाल किताब में कार्तिकेय को इस ग्रह का स्वामी माना गया है जो महादेव के पुत्र एवं भगवान श्री गणेश के सहोदर के रूप मे जाने जाते हैं।

नव ग्रहों में मंगल को सेनापति की संज्ञा दी गयी है। शारीरिक तौर पर मंगल से प्रभावित जातक स्वस्थ, और मध्य लंबे कद के होते हैं। कमर पतली छाती चैड़ी, बाल घुंघराले, आंखे लाल होती हैं। उनके चेहरे पर तेज होता है। मंगल मेष एवं वृश्चिक राशि का स्वामी है। मृगशिरा, चित्रा और धनिष्ठा नक्षत्रों का स्वामित्व भी मंगल को ही प्राप्त है। मंगल तृतीय एवं षष्ठ भाव का कारक है। मिथुन लग्न और कन्या लग्न की कुंडली में यह विशेष अकारक ग्रह बन जाता है। मंगल मकर राशि में उच्च और कर्क राशि में नीच का होता है। लग्न कुंडली में मंगल जिस भाव में स्थिति होता है उस भाव से संबंधित कार्यों को अपनी प्रकृति के अनुसार सुदृढ़ करता है।

शुभ मंगल मंगलकारी और अशुभ मंगल अमंगलकारी कार्य करता है। मंगल शक्ति, साहस, सेनाध्यक्ष, युद्ध, दुर्घटना, क्रोध, षड्यंत्र, बीमारियों, शत्रु, विपक्ष, विवाद, संपŸिा, छोटे भाई नेता, पुलिस, डाक्टर, वैज्ञानिक, मेकैनिकल इंजीनियरिंग, इलेक्ट्रिकल, इलेक्ट्राॅनिक कार्यों का कारक ग्रह है। मंगल तांबे, खनिज पदार्थों, कच्ची धातु, सोने, मूंगे, हथियार, भूमि आदि का प्रतिनिधित्व करता है। मंगल शिराओं, धमनियों टूट-फूट, अस्थि-मज्जा के रोग, रक्त स्राव, गर्भपात, मासिक धर्म मंे अनियमितता, सूजाक, गठिया, और जलना आदि रोगों का प्रतीक है। अशुभ मंगल अमंगलकारी हो जाता है जिसके प्रभाव से प्रभावित जातक क्रोधी, आतंकवादी, दुराचारी, षड्यंत्रकारी और विद्रोही होता है। मंगल की क्रूरता के कारण ही वर-वधू की कुंडली में मंगली मिलान आवश्यक होता है। दाम्पत्य जीवन सुखमय हो इसके लिए वर-वधू दोनों की कंुडली में मंगल की स्थिति को देख कर मिलान किया जाता है।

लाल किताब में अशुभ अर्थात बद मंगल को वीरभद्र की संज्ञा दी गई है और माना गया है कि मंगल जातक का स्वास्थ्य ठीक नहीं रहेगा और वह स्वभाव से जिद्दी एवं उग्र हो सकता है। चतुर्थ भाव से सुख, संपत्ति, भूमि, भवन, वाहन एवं उपभोग में आने वाली भौतिक सामग्री का आकलन किया जाता है। चतुर्थ भाव में मंगल हो अथवा उस पर उसकी दृष्टि पड़े, तो इन फलों में कमी आएगी। सप्तम भाव से जीवनसाथी और रतिसुख की विवेचना की जाती है

यदि मंगल सप्तम में हो या उस पर क्रूर दृष्टि डाल रहा हो, तो पारिवारिक व वैवाहिक जीवन सुखमय नहीं रहेगा, विधुर-विधवा योग भी घटित हो सकते हैं।
अष्टम भाव से आयु तथा जीवन में आने वाली बाधाओं का विचार किया जाता है। इस भाव से मंगल दोष बने अथवा इस पर मंगल की दृष्टि पड़े, तो अनेकानेक बाधाओं का सामना करना पड़ता है और अनिष्ट की संभावनाएं तथा जीवन साथी की मृत्यु की भी आशंकाएं रहती हैं।
द्वादश भाव से शय्या सुख, व्यय, हानि, शासन दंड, कारावास, बदनामी आदि का विचार किया जाता है
यदि मंगल इस भाव से संबंध स्थापित करता हो या इसमें स्थित हो, तो अनावश्यक व्यय, मन में चिंता, परेशानियां, नींद का अभाव आदि होते हैं। इस प्रकार मंगल की अलग-अलग भावों में स्थिति के फल अलग-अलग फल होते हंै किंतु यह सर्वमान्य सत्य है कि वैवाहिक सुख ऊपर वर्णित भावों से पूर्णतया संबद्ध है। वैवाहिक सुख में शरीर, मन, रति सुख एवं काम क्रीड़ा की अपनी विशेष महत्ता है। मंगल दोष वैवाहिक जीवन में सर्वाधिक बुरा प्रभाव डालता है जबकि मंगल, शनि, राहु, केतु एवं सूर्य से बनने वाले कुयोग कम प्रभावशाली होते हैं।

लाल किताब में भी यह माना गया है कि मंगल दोष अपना सर्वाध् िाक बुरा प्रभाव सप्तम व अष्टम भावों में दिखाता है जबकि व्यय भाव में इसका प्रभाव कम होता है। मूलतः यह माना जाता है कि मंगल दोष कुटुंब सुख में बाधक होता है क्योंकि अग्नि तत्व प्रधान होने के कारण मंगल साध् ाारण ग्रहों से प्रभावित नहीं हो पाता। फलतः जातक में क्रोध, चिड़चिड़ापन, हठधमिर्त ा, कामाध्ं ाता, वचै ारिक मतभदे आदि बढ़ जाते हंै, जिससे पारिवारिक जीवन दुखद हो जाता है। लाल किताब में बताए गए दोष निवारण के उपाय एवं बद (अशुभ) ग्रहों को निष्क्रिय करने अथवा शुभत्व प्रदान करने के सुझाव अत्यंत प्रभावशाली हैं जिन्हें एक सामान्य इन्सान, आर्थिक रूप से विपन्न व्यक्ति भी, आसानी से कर के लाभान्वित हो सकता है।

मंगल दोष निवारणार्थ लाल किताब में सुझाए गए उपाय भावों एवं लग्न के अनुसार अलग-अलग हैं किंतु मंगल दोष के सामान्य उपाय सभी प्रकार की लग्न कुंडलियों के विविध भावगत मंगल दोष के लिए सर्वमान्य हैं, जिन्हें अवश्य करना चाहिए। जैसे मंगल की धातु तांबा तथा रत्न मूंगा है, शहद एवं मिठाई मंगल को विशेष प्रिय हंै।

इनकी शांति, पूजा, दानादि से लग्न को सबल, सक्रिय किया जा सकता है। मंगलवार का व्रत, हनुमानजी की आराधना, विविध पाठ, शहद, सिंदूर, मसूर की दाल का दान या उनका बहते पानी में प्रवाह, मृगचर्म पर शयन, शुद्ध चांदी का प्रयोग, भाई की सेवा आदि प्रमुख उपाय हैं। पवनसुत हनुमान जी की आराधना को लाल किताब में श्रेष्ठ, सरल एवं सस्ते उपायों की श्रेणी में रखा गया है। वहीं भगवान कार्तिकेय तथा धरती की पूजा का भी विधान है। स्वयं मंगलदेव की आराधना और उनकी भगिनी यमुना की पूजा से भी दोष का शमन होता है। सूर्य के आ. ज्ञाकारी पुत्र होने के कारण सूर्य की आराधना से भी मंगल प्रसन्न होता है। मंगल दोष दूर करने के लग्नानुरूप तथा भावानुरूप सुझाए गए लाल किताब के विशिष्ट उपाय अत्यंत कारगर हैं, जिन्हें अपनाकर आम जन भी मंगल के अशुभत्व को शुभत्व में बदल सकते हैं।

इन उपायों से कोई हानि नहीं होती। मंगल लग्न में होकर अशुभ हो, मंगल दोष बना रहा हो, तो जातक मुफ्त में दान ग्रहण न करे और कोई वस्तु बिना मूल्य चुकाए स्वीकार न करें।
हाथी दांत की बनी वस्तुएं घर में या अपने पास न रखें। चतुर्थ भावस्थ मंगल यदि अशुभ हो, तो शहद, शक्कर और चीनी का व्यापार कदापि न करें।
बंदरों, साध् ाुओं और अपनी मां की सेवा करें। बंदरों को गुड़ और चना खिलाएं। अष्टमस्थ मंगल के भी यही उपाय हैं।
इसके अतिरिक्त इस स्थिति के दोष से बचाव के लिए विधवाओं का आशीर्वाद प्राप्त करें तथा अपने पुत्र के जन्मदिन पर नमक बांटें।
सप्तम (जाया) भाव में किसी भी राशि का मंगल जब अशुभ हो, तो जातक साली, मौसी, बहन, बेटी और बुआ को मिठाइयां बांटें।
झूठ और झूठी गवाही से बचें। पत्नी को चांदी की चूड़ी लाल रंग करके पहनाएं। व्यय भाव में जब मंगल अशुभता लिए हुए हो, तो जातक नित्य सुबह खाली पेट शहद का सेवन, मंदिर में बांटें और अन्य लोगों को खिलाएं।
इस प्रकार उक्त भावों में मंगल की स्थिति से उत्पन्न होने वाले मंगल दोष के निवारण का उल्लेख लाल किताब में किया गया है। भाव तथा लग्न स्थिति के अनुसार उपाय अलग-अलग हैं जिसकी संक्षेप में यहां व्याख्या कर पाना संभव नहीं है। किंतु मंगल दोष से बचने का सर्वाध् िाक सरल तरीका लाल किताब में बताया गया है।
लाल किताब की इसीलिए ज्योतिष में अपनी अलग छवि और स्थान है। वहीं इसके सुझावों में मानवीय रिश्तों को भी कम महत्व नहीं दिया गया है। इसमें कहा गया है कि मां, मौसी, बहन, बुआ, साली, बेटी, लड़कियों तथा विधवाओं और भाई की सेवा से मंगल की अशुभता में कमी आती है। ताऊ अर्थात पिता के बड़े भाई की सेवा को भी उपायों में शामिल किया गया है।

भगवान श्रीराम के परम भक्त हनुमान मंगल के प्रिय आराध्य हैं और हनुमान जी सात्विकों तथा ब्रह्मचर्य का पालन करने वालों के दुखों को दूर करते हैं। चूंकि दाम्पत्य सुख पाने के लिए पति-पत्नी का मिलन आवश्यक है अतः ब्रह्मचर्य का पालन संभव नहीं है। ऐसे में एक दूसरे के प्रति निष्ठा आवश्यक होती है।

दान का समय: सूर्योदय से सूर्यास्त के बीच कभी भी। मंगल के मंत्रों की जप संख्या: दस हजार ।
मंगल ग्रह के बीज मंत्र: ॐ क्रां क्रीं क्रौं सः भौमाय नमः। , ॐ अं अंगारकाय नमः
मंगल गायत्री मंत्र: ॐ अंगारकाय विद्महे शक्तिहस्ताय धीमहि तन्नो भौमः प्रचोदयात्।
मंगल की शांति के लिए मंगलवार का व्रत, हनुमान मंदिर में दीपदान, बजरंग बाण का पाठ, सुंदरकांड का पाठ अथवा हनुमत लांगूल स्तोत्र का पाठ एवं ग्यारह प्रदोष के दिन रुद्राभिषेक करना चाहिए। मंगल और रुद्राक्ष: मंगल ग्रह जनित गर्भ दोष, गर्भ संबंधी पीड़ा एवं रोगों से मुक्ति के लिए अठारहमुखी रुद्राक्ष धारण करना चाहिए।

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 4.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



latest from jagran